Unacademy Roman Saini Biography In Hindi : Wikipedia,Contact Number,Quotes

0
Roman Saini biography in hindi
Roman Saini biography in hindi

Unacademy Roman Saini Biography In Hindi : Wikipedia,Contact Number,Quotes

Hy friends आज मै आपको रोमन सैनी की जीवनी,Roman Saini Biography In Hindi,Unacademy In Hindi,रोमन सैनी का जीवन परिचय,रोमन सैनी की सफलता की कहानी,Roman Saini success Story in Hindi,Roman Saini, bio wiki, Birth DOB Age family, education, Roman Saini Motivational Quotes,career,Wikipedia,Contact number,family,facebook,wife के बारे में पूरी जानकारी देंगे।

Roman Saini Biography : रोमन सैनी जीवनी

रोमन सैनी जब महज 16 साल के थे तब उन्‍होंने मेडिकल की परीक्षा उत्‍तीर्ण कर ली थी और AIIMS (अखिल भारतीय आर्युविज्ञान संस्‍थान में ज्यूनियर रेजीडेट डॉक्‍टर के पद पर कार्य किया। 22 वर्ष की उम्र में आई ए एस की परीक्षा बड़ी आसानी से पास कर लिया था लेकिन रोंमन कुछ और ही करना चाहते थे इसलिए उन्‍होंने  IAS  की जॉब को छोड़कर UPSC में बैठने वाले युवाओं को नि:शुल्‍क ऑनलाइन प्रशिक्षण देना शुरू किया।रोमन सैनी  Unacademy में उन बच्‍चोंको प्रशिक्षित करते है जिनमें कुछ करने का हौसला है लेकिन वे बच्‍चे पैसों और साधनों की वजह से पीछे रह जाते है। तो चलिए जानते है रोमन सैनी की जीवनी (Roman Saini biography IN Hindi)।

Roman Saini Birth :-

रोमन सैनी मूल निवासी कोटपूतली के रायकरण पुरा गाँव राजस्‍थान के है। रोमन की माँ एक ग्रहणी तथा पिता एक इंजीनियर है। उन्‍होंने 16 साल की छोटी उम्र से ही  AIIMS  में Admission Test पास कर लिया था। रोमन कहते है कि जब मैं 2011 में कई मेडिकल कैम्‍पों में गये तब मुझे एहसास हुआ कि गरीबी क्‍या होती है। क्‍योंकि वहाँ साफ-सफाई नही थी, पीने के लिए पानी तक नही था, यह नजारा देखकर रोमन बहुत दुखी थे लेकिन वे कुछ नही कर सकते थे क्‍योंकि वे एक डॉक्‍टर थे। रोमन ने तभी प्रण लिया कि मै आई ए एस की परीक्षा में उत्‍तीर्ण होकर देश की सेवा करूँगा।

Roman Saini Career :-

रोमन ने 2013 में 22 साल की उम्र में आईएएस की परीक्षा पहले प्रयास में ही उत्‍तीर्ण कर ली रोमन ने अपनी सफलता पर कहते है कि मेरे माता पिता ने मुझे छोटी उम्र में ही मेरे भाग्‍य पर छोड़ दिया क्‍योंकि मैं अपने माता पिता के साथ सामाजिक कार्यक्रमों में नही जाता था और न ही परिवार के किसी पार्टी विवाह समारोह में जाता था तो मेरे रिश्‍तेदारों और दोस्‍तो को लगा कि मै औरो से काफी अलग हूँ शायद कुछ अजीब भी जहॉ तक वे मेरे बारे में सही सोचते थे। मुझे अपनी पंसद का काम करना अच्‍दा लगता है , मै अपनी ही दुनिया में खोया रहता था क्‍योंकि मैने अपने जीवन में जरूरी, न जरूरी वाले कामों  के बीच अन्‍तर करना सीख लिया था। जिसकी वजह से मैं अपने जीवन में सही कामों को सही तरह से करने में मुझे सफलता मिली।

रोमन सैनी सिविल सेवा की परीक्षा में 18वीं रैंक हांसिल की। आज रोमन कई विद्यार्थी को घर बैठे ऑनलाइन प्रशिक्षण दे रहे है। रोमन सैनी ने फैसला किया  कि free online Tranning  के तहत अन्‍य प्रतिभागियों की मदद करेंगे। इसके लिए उन्‍होंने Unacademy की नीव रखी।  यह आनलाइन कोचिंग वेबसाइट है जिसे वो अपने दोस्‍तों गौरव मुंजाल, हेमेश सिंह, सचिन गुप्‍ता के साथ मिलकर चलाते है।

रोमन का मानना है कि उत्‍तर प्रदेश लोकसेवा आयोग की पढ़ाई में काफी पैसा लगता है।  UPSC की कोचिंग के लिए बहुत पैसे की जरूरत होती है। यूट्यूब चैनल पर Unacademy  को कई  Like, Views, Comment मिलते है। रोमन सिर्फ अपने  Students  की समस्‍याएं यूट्यूब पर ही नहीं बल्कि फेसबुक ट्यूटर पर भी हली करते हैं वे प्रतियोगी छात्रों स्‍टडी करने वाले युवाओं से कहते है कि परीक्षा से रिलेटेड कोई भी समस्‍याएं हो तो वे बेझिझक पूछे।

Roman Saini Motivational Quotes In Hindi : रोमन सैनी द्वारा कहे गये शब्‍द तथा विचार –

  • मेरा मानना है कि यदि हम किसी भी चीन को पाने की दृढ़ प्रतिज्ञा कर ले तो उस चीज को हम एक न एक दिन जरूर हासिल कर सकते है। मेरे लिए उपलब्धि पाने का कोई बाहरी मानक नहीं था। मैने वो सब कुछ किया। जिससे मै खुश रह सकूँ। मै गिटार बजाता हूँ,क्‍योंकि मुझे संगीत पंसद है इसलिए नही कि इंग्‍लैण्‍ड में ट्रिन्‍ट्री कॉलेज जाने की ख्‍वाहिश रखता हूँ | मेडिकल सिविल सेवा, ऑनलाइन साम्रगी के द्वारा UPSC की परीक्षा पास करने की उम्‍मीद रखने वाले लाखो विघार्थी की मदद करना यह सब मेरे मन की आवाज है।
  • मुझे स्‍कूल की पढ़ाई में लगाव नही था और मै पढ़ने में भी तेज नही था। मेरा मानना यह है कि स्‍कूल मे सिर्फ अच्‍छे मार्क्‍स लाने को अधिक महत्‍व दिया जाता है। मै परीक्षाओं को उत्‍तीर्ण करने के लिए स्‍कूलों और कॉलेजों की रटने वाली पद्धति से कतई सन्‍तुष्‍ट नही हूँ मैंने मेडिकल की प्रवेश परीक्षा इसलिए दी थी क्‍योंकि मुझे बॉयलाजी सब्‍जेक्‍ट अच्‍छा लगता था और इस सब्‍जेक्‍ट के बारे में विस्‍तृत से पढ़ना अच्‍छा लगता था। एम्‍स में चयन होना, बॉयलॉजी सब्‍जेक्‍ट मे मेरी दिलचस्‍पी का महत्‍वपूर्ण भाग था UPSC के लिए भी मैने उन्‍ही विषयों का चुनाव किया जो सब्‍जेक्‍ट मुझे पढ़ने में चुनाव किया जो सब्‍जेक्‍ट मुझे पढ़ने में अच्छे लगते थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.