Nikal Pado Re Song Lyrics In Hindi Satyamev Jayate

0
96

Nikal Pado Re Song Lyrics In Hindi: Boonie Chakravarty Satyamev Jayate

दोस्तो आज हम आपके लिए Satyamev Jayate शो का अंतिम गीत Nikal Pado Re Lyrics In Hindi लेकर आए है|Satyamev Jayate के अंतिम 13 वें एपिसोड में आमिर खान बेहतर भारत बनाने के शो की पूरी अवधारणा को बताते हैं।

आमिर खान ने कहा कि “मेरा इरादा किसी भी व्यक्ति या लोगों के समूह को चोट पहुंचाना नहीं था। मैंने वास्तव में उठाए गए सभी मुद्दों में विश्वास किया, मैं बस एक बेहतर भारत चाहता हूं। “इस गीत में अपने देश के लिए कुछ अच्छा करने के लिए कहा गया क्योंकि भारत देश में कई जगह  बिजली ,पानी की जरुरत है lलेकिन इन सब चीजों से भी बढकर कर आपस में प्रेम होना| भारत को भ्रष्टाचार से मुक्त ,समाजवादी ,धर्मनिरपेक्ष ,लोकतांत्रिक गणराज्य देश बनाना है|

 

Song :- Nikal Pado Re
Composed By :- Ram Sampath
Lyrics By :- Munna Dhiman
Sung By :- Bonnie Chakravarty
Produced By :- Sona Mahapatra

निकल पड़ो रे बंधु निकल पड़ो रे

निकल पड़ो रे राही निकल पड़ो रे

निकल पड़ो रे बंधु निकल पड़ो रे

निकल पड़ो रे राही निकल पड़ो रे

अरे ना-मुमकिन भी मुमकिन होवे

करके देखो रे बंधु

निकल पड़ो रे बंधु निकल पड़ो रे

निकल पड़ो रे राही निकल पड़ो रे

Nikal Pado Re Raahi Nikal Pado Re

अरे नाम दाम और शान पे

उसका नहीं ध्यान लागा जिसको लागा प्रेम

जागा जिसमें जागा प्रेम

अरे कोई देखे न देखे वह

करता जाए काम लागा जिसको लागा प्रेम

जागा जिसमें जागा प्रेम

अरे दर दर प्रेम जगावे

दर दर जावे प्रेम जगावे जिसको लागा प्रेम

लागा जिसको लागा प्रेम

जागा जिसमें जागा प्रेम

दर दर जावे…. प्रेम जगावे

तुम भी जाओ रे बंधु

निकल पड़ो रे बंधु निकल पड़ो रे

निकल पड़ो रे राही निकल पड़ो रे

Nikal Pado Re Raahi Nikal Pado Re

अरे जिसे भी किसी तड़प ने किसी लगन ने

छुआ जब भी छुआ रे

हुआ यही हुआ रे

अरे बदली उसकी नजरिया ,बदली डगरिया

वह तो निकल पड़ा रे घर से निकल पड़ा रे

दर दर जावे ….

दर दर जावे हाक लगावे निकल पड़ा रे

वह तो निकल पड़ा रे ,घर से निकल पड़ा रे

दर दर जावे हाक लगावे

तुम भी सुनो रे बंधु निकल पड़ो रे बंधु

निकल पड़ो रे

निकल पड़ो रे राही निकल पड़ो रे

अरे ना-मुमकिन भी मुमकिन होवे

करके देखो रे बंधु

निकल पड़ो रे बंधु निकल पड़ो रे

निकल पड़ो रे राही निकल पड़ो रे

निकल पड़ो रे बंधु निकल पड़ो रे

Nikal Pado Re Bandhu Nikal Pado Re

Nikal Pado Re Song Lyrics

Nikal pado re bandhu nikal pado re
Nikal pado re raahi nikal pado re
Nikal pado re bandhu nikal pado re
Nikal pado re raahi nikal pado re
Arey na-mumkin bhi mumkin hove
Karke dekho re bandhu
Nikal pado re bandhu nikal pado re
Nikal pado re raahi nikal pado re

Arey naam daam aur shaan pe
Uska nahin dhyaan laaga jisko laaga prem
Jaaga jismein jaaga prem
Arey koi dekhe na dekhe woh
Karta jaaye kaam laaga jisko laaga prem
Jaaga jismein jaaga prem

Arey dar dar jaave… prem jagaave
Dar dar jaave prem jagaave jisko laaga prem
Laaga jisko laaga prem
Jaaga jismein jaaga prem
Dar dar jaave prem jagaave
Tum bhi jaago re bandhu
Nikal pado re bandhu nikal pado re
Nikal pado re raahi nikal pado re

Arey jise bhi kisi tadap ne kisi lagan ne
Chhua jab bhi chhua re
Hua yehi hua re
Arey badli uski najariya, Badli dagariya
Woh toh nikal pada re ghar se nikal pada re
Dar dar jaave…
Dar dar jaave haak lagave nikal pada re
Woh to nikal pada re, ghar se nikal pada re
Dar dar jaave haak lagave
Tum bhi suno re bandhu nikal pado re bandhu nikal pado re
Nikal pado re raahi nikal pado re
Arey na-mumkin bhi mumkin hove
Karke dekho re bandhu
Nikal pado re bandhu nikal pado re
Nikal pado re raahi nikal pado re
Nikal pado re bandhu nikal pado re

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here