Dr. Bhimrao Ambedkar Facts in Hindi : डा० भीमराव अम्‍बेडकर तथ्य

0
dr-bhimrav-ambedkar-facts-hindi
dr bhimrav ambedkar facts hindi

Dr. Bhimrao Ambedkar Facts in Hindi : डा० भीमराव अम्‍बेडकर तथ्य

Hy friends  आज मै आपको डा० भीमराव अम्‍बेडकर के बारे में रोचक तथ्‍य ( Dr. Bhimrao Ambedkar facts In Hindi),डा० भीमराव अम्‍बेडकर के बारे में अनसुनी बातें, Interesting facts Dr. Bhimrao Ambedkar in Hindi, डा० भीमराव अम्‍बेडकर के बारे में 20 रोचक तथ्‍य, के बारे में जानकारी देंगे।

Friends आज हम बात करेंगे एक ऐसे महान व्‍यक्ति की जिन्‍होनें हमारा संविधान लागू किया। डा० भीमराव अम्‍बेडकर (Dr. Bhimrao Ambedkar) एक दलित राजनीतिक नेता थे ये एक दलित और राजनीतिक और भारतीय संविधान (Indian Constitution) के मुख्‍य तौर पर पहचाने जाते है। डा० भीम राव अम्‍बेडकर के फैक्‍टस इन हिन्‍दी के बारे में रोचक बातें बतायेंगे।

दोस्‍तों आज हम आपके साथ शेयर करने जा रहे है :Dr. Bhimrao Ambedkar facts in Hindi-

डा० भीमराव अम्‍बेडकर ऐसे महान व्‍यक्तियों में से पैदा हुए थे जो हमारे देश की महानता को प्राप्‍त करते है डा० भीमरावअम्‍बेडकर के बारेमें अधिक से अधिकजानकारी देंगे। डा० भीमराव अम्‍बेडकर एक न्‍यायविधिक सामाजिक और राजनीतिक व्‍यक्ति एक मेरे प्रसिद्ध राजनेता और प्रतिष्ठित न्‍यायविद् थे | उन्‍होनें अछूतों (दलितो) के खिलाफ आवाज उठाई तथा दलितो के खिलाफ सामाजिक भेदभाव के लिए आवाज उठाई तथा उन्‍होने गरीब परिश्रमी महिलाओं के अधिकारों का समर्थन किया| उन्‍हें भारत गणराज्‍य का जनक भी जाता है। भीमराव अम्‍बेडकेर ने अपनी पूरी जिंदगी देश की अनुसूचित जातियों को हक दिलाने के लिए बात की जी हां हम बात करे डा० भीमराव अम्‍बेडकर जो एक मेहनत और संघर्ष प्रतिभाशाली छात्र थे। डा० भीमराव अम्‍बेडकर ने कोलंबिया विश्‍वविद्यालय और लंदन स्‍कूल ऑफ इकोनॉमिक्‍स दोनों ही विश्‍वविद्यालय में अर्थशास्‍त्र में उपाधि प्राप्‍त की। वे हिन्‍दू महार जाति में संबंध रखते है जो अछूत मानी जाती है। इस कारण उनके सामाजिक और आर्थिक रूप से गहरा भेदभाव किया जाता है डा० भीमराव अम्‍बेडकर की विरासत में लोकप्रिय संस्‍कृति में कई स्‍मारक का चित्रण किया गया है तो चालिये जानते है-

डा० भीमराव के रोचक तथ्‍य –Interesting fact of BhimRao Ambedkar In Hindi

  1. डा० भीमराव अम्‍बेडकर का जन्‍म 14 अप्रैल सन् 1891 में मध्‍यप्रदेश में महू गांव में हुआ था।
  2. डा० भीमराव अम्‍बेडकर अपनी माता पिता के 14 वीं संतान थे।
  3. डा० भीमराव अम्‍बेडकर के पिता का नाम राम जी मालोजी सकपाल और माता का नाम भीमाबाई मुरबादकर था।
  4. उनके पिता भारतीय सेना की मऊ छवनी में कार्यरत थे।
  5. डा० भीमराव अम्‍बेडकर जी को लगभग 19 भाषाओं का ज्ञान प्राप्‍त था।
  6. डा० भीमराव अम्‍बेडकर भारत के पहले कानून मंत्री थे।
  7. डा० भीमराव अम्‍बेडकर की अपनी आत्‍मकथा ‘waiting for a viza’ को कोलंबिया यूनिवर्सिटी में test करके उपयोग किया।
  8. डा० भीमराव अम्‍बेडकर दूसरे नाम से जाने जाते है जो उनके समय पर बाबा साहेब डा० भीमराव अम्‍बेडकर रखा गया।
  9. डा० भीम राव अम्‍बेडकर ने अपनी 21 वर्ष की आयु में सभी धर्मो की पढ़ाई कर ली।
  10. डा० भीम राव अम्‍बेडकर हिंदू महार जाति के थे उन्‍हें लोग अछूत और दलित मानते थे।
  11. डा० भीमराव ने अपनी जिंदगी मं उन्होनें दो बार लोकसभा का चुनाव लडा और दोनों में हार गयें।
  12. संविधान का निर्माण करने वाले डा० भीमराव अम्‍बेडकर ही थे इसलिये उनको भारतीय  संविधान का जनक कहा जाता है।
  13. डा० भीमराव अम्‍बेडकर ने महिला परिश्रम महिला कल्‍याण निधि और बाल श्रम जैसे कई योजनाओं की पहल की थी।
  14. डॉ० भीमराव अम्‍बेडकर ने अपनी दो शादी की थी पहली पत्‍नी का नाम रमाबाई था, उनकी मृत्‍यु होने के बाद उन्‍होनें अपना दूसरा विवाह कर लिया।
  15. भीम राव अम्‍बेडकर की दूसरी पत्‍नी एक ब्राह्मण महिला थी जिनका नाम सविता था।
  16. डॉ० भीमराव अम्‍बेडकर अपने व्‍यवसाय में एक वकील थे। उन्‍होनें अपने जीवने में दो साल तक मुम्‍बई के सरकारी लॉ कॉलेज के प्रिसिंपल के पद पर कार्यरत थे।
  17. डॉ० भीमराव अम्‍बेडकर ही झण्‍डे में अशोक चक्र लगवाने वाले एक महान व्‍यक्ति थे।
  18. भीमराव अम्‍बेडकर को संविधान निर्माण का जनक माना जाता है, इन्‍होनें भारतीय संविधान का निर्माण किया।
  19. भीमराव अम्‍बेडकर के सुविचार निम्नलि‍खित है-
  20. अगर जिंदगी में सफल होना है तो पैसे को जेब में रखो दिमाग में नही
  21. भीमराव अम्‍बेडकर के शब्‍दों में – ‘अगर खुश और संतुष्‍ट रहना है तो अपने आप में ही रहना।
  22. राजनीतिक अत्‍याचार सामाजिक अत्‍याचार की तुलना में कुछ भी नही है ओर एक सुधारक जो समाज को खारिज कर देता है वो सरकार को खारिज कर देने वाले राजनीतिज्ञ से ज्‍यादा साहसी है।
  23. कानून और व्‍यवस्‍था राजनीतिक शरीर की दवा है और जब राजनीतिक शरीर बीमार पड़े तो दवा जरूर दी जानी चाहिए।
  24. यदि हम भीम राव अम्‍बेडकर के परिवार की बात करे तो उनके पूर्वज काफी समय तक ईस्‍ट इण्डिया कम्‍पनी में कार्यरत है।
  25. डॉ० भीमराव अम्‍बेडकर ने सन् 1954 में डायबिटीज  जैसी घातक बीमारी से ग्रस्‍त रहे।
  26. डॉ० अम्बेडकर ने विदेश जाकर अर्थशास्‍त्र डॉयरेक्‍टर की डिग्री हासिल करने वाले भारत के पहले भारतीय थे।
  27. डॉ० अम्बेडकर जी ने एक बौद्ध भिक्षु से पारंपरिक तरीके से तीन रत्‍न ग्रहण किया और पंचशील को अपनाते हुए बौद्ध धर्म ग्रहण कर लिया ।
  28. डॉ० अम्बेडकर का बचपन नाम रामजी सकपाल था।
  29. डॉ० अम्बेडकर अपने माता-पिता की 14वीं संतान और आखिरी संतान थी।
  30. डॉ० अम्बेडकर एक महान व्‍यक्त्‍िा थे।
  31. 14 अक्‍टूबर 1956 को नागपुर में अम्‍बेडकर ने खुद और उनके समर्थकों के लिए औपचारिक सार्वजनिक समारोह का आयोजन किया।
  32. डॉ० अम्बेडकर को दूसरे नाम से भी जाना जाता है उनका दूसरा नाम बाबा साहेब के नाम से पुकारा जाता है।
  33. उनको भारत का संविधान का पिता कहा जाता है।
  34. उन्‍होने अपना धर्म छोड़कर बौद्ध धर्म को सन् 1956 में अपना लिया।
  35. 1990 में मरणोपरांत आंबेडकर को सम्‍मान देते हुए, भारत का सबसे बड़ा नागरिकी पुरस्‍कार “भारत रत्‍न” जारी किया।
  36. 1942 में ‘शेड्युल्‍ट कास्‍ट फेडरेशन’ इस नाम के पक्ष की स्‍थापना की।
  37. 1942 से 1946 तक उन्‍होने गर्वनर जनरल की कार्यकारी मंडल ‘श्रम मंत्री’ बनकर कार्य किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.