Chandra Shekhar Azad Quotes In Hindi : चन्द्रशेखर आज़ाद के विचार

0

Chandra Shekhar Azad Quotes In Hindi : चन्द्रशेखर आज़ाद के विचार 

नमस्कार दोस्तों आज हम आपसे Chandra Shekhar Aazad के Hindi,Thoughts,Poem [प्रसिद्द अनमोल विचार] Share करेंगे |चंद्रशेखर आज़ाद का नाम सुनते ही हमारे शरीर में एक अलग ही खून रोमांचित हो उठता है , जो हमे अपने देश की सेवा के लिए कर्तव्यनिष्ठ होने का भाव जागृत करता है | चंद्रशेखर आज़ाद जैसे शूर वीर जिस शताब्दी में जन्म लेते है वे उस शताब्दी को ही उस देश की प्रगति में पंख लगा देते हैं , इसलिए आज मै आपसे आज कुछ Chandra Shekhar Azad Quotes In Hindi : चन्द्र शेखर आज़ाद के अनमोल विचार Share कर रहा हूँ , आशा है आपको यह काफी पसंद आयेंगे |

“दूसरों को आप से बेहतर प्रदर्शन न करें, हर रोज अपने रिकॉर्ड को हराएं, क्योंकि सफलता आपके और अपने आप के बीच एक लड़ाई है।” 

                                                                                         –  Chandra Shekhar Azad

“यदि अभी तक आपका खून क्रोधित नहीं होता है, तो यह पानी है जो आपकी नसों में बहती है। युवाओं का लक्ष्य क्या है, अगर यह मातृभूमि की सेवा नहीं है।” 

                                                                                        –  Chandra Shekhar Azad

“यदि अभी तक आपका खून नहीं है” मैं एक ऐसे धर्म में विश्वास करता हूं जो स्वतंत्रता, समानता और भाईचारे का प्रचार करता है। “

                                                                                          –  Chandra Shekhar Azad

अभी भी जिसका खून ना खौला, वो खून नहीं पानी है;जो देश के काम ना आए, वो बेकार जवानी है।

                                                                                           –  Chandra Shekhar Azad

Chandra Shekhar Azad Thoughts In Hindi

                                                                                      –  Chandra Shekhar Azad
 

एक विमान जब तक जमीन पर है वह सुरक्षित रहेगा , लेकिन विमान जमीन पर रखने के लिए नहीं बनाया जाता , बल्कि ये हमेशा महान ऊंचाइयों को हासिल करने के लिए जीवन में कुछ सार्थक जोखिम लेने बनाया जाता है |

                                                                                          –  Chandra Shekhar Azad

दुश्मन की गोलियों का सामना करेंगे,आजाद ही रहे हैं, आजाद रहेंगे।

                                                                                        –  Chandra Shekhar Azad

यदि खून में रोष नहीं है, तो वह पानी के समान है जो फिर पानी मे रंग मिलकर बह रहा है |

                                                                                         –  Chandra Shekhar Azad

यदि कोई युवा मातृभूमि की सेवा नहीं करता है, तो उसका जीवन व्यर्थ है।

                                                                                        –  Chandra Shekhar Azad

आप हर दिन दूसरों, को अपने रिकॉर्ड तोड़ने का प्रतीक्षा मत करो। बल्कि खुद उसे तोड़ने का प्रयत्न करो क्योंकि सफलता के लिए आपकी खुद से लड़ाई है।

                                                                                         –  Chandra Shekhar Azad

मैं ऐसे धर्म को मानता हूं, जो स्वतंत्रता समानता और भाईचारा सिखाता है।

                                                                                           –  Chandra Shekhar Azad

मेरा नाम आजाद, मेरे पिता का नाम स्वाधीन, और मेरा घर जेल है |

                                                                                         –  Chandra Shekhar Azad

“Don’t see others doing better than you, beat your own records everyday, because success is a fight between you and yourself.”

                                                                                         –  Chandra Shekhar Azad

“If yet your blood does not rage, then it is water that flows in your veins. For what is the flush of youth, if it is not of service to the motherland.” 

                                                                                         –  Chandra Shekhar Azad

Chandra Shekhar Azad Poem In Hindi

‘मां हम विदा हो जाते हैं, हम विजय केतु फहराने आज,
तेरी बलिवेदी पर चढ़कर मां, निज शीश कटाने आज।
 
मलिन वेष ये आंसू कैसे, कंपित होता है क्यों गात? 
वीर प्रसूति क्यों रोती है, जब लग खंग हमारे हाथ।
 
धरा शीघ्र ही धसक जाएगी, टूट जाएंगे न झुके तार,
विश्व कांपता रह जाएगा, होगी मां जब रण हुंकार।
 
नृत्य करेगी रण प्रांगण में, फिर-फिर खंग हमारी आज,
अरि शिर गिराकर यही कहेंगे, भारत भूमि तुम्हारी आज।
 
अभी शमशीर कातिल ने, न ली थी अपने हाथों में।
हजारों सिर पुकार उठे, कहो दरकार कितने हैं।।’   

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.